Basic Input Output system(BIOS) & Function of BIOS

0
32

Basic Input Output system(BIOS) & Function of BIOS

Computer start करने पर सबसे पहले जो Screen आपको दिखाई देता है| वही BIOS होता है |BIOS का पूरा नाम Basic Input Output System होता है |इसे System BIOS या PC BIOS भी कहा जाता है | यह Motherboard के साथ जुड़ा एक Software होता है | जो Computer ON करते ही अपने आप Start हो जाता है| BIOS computer के ON होने पर RAM, Processor, Keyboard, Hard Disk आदि को Identify कर उन्हें Configure करता है |

यह हमारे Computer की ROM memory में establish होता है | जो Computer के सभी Hardware को identify करता है | BIOS मुख्यरूप से Computer के Operating system को Boot कराने का Work करता है | जब Computer ON होता है | BIOS आपके द्वारा की गयी CMOS Setup को check करता है | और यह तय करता है कि किस Device से System boot कराया जाये | और उन सभी को Prepare करने के बाद Operating system को call करता है | तभी हमारा Computer Start होता है और हम उसे  use कर पाते है |

Basic Input Output system(BIOS) 
Basic Input Output system(BIOS)

BIOS हर Computer में पहले से ही Install रहता है | क्योकि CPU में Program BIOS के बाद ही install हो पाते है | यह Computer की Non-volatile memory ROM के अंदर install रहता है | जो Chip हमारे Computer के Motherboard में लगी होती है | इसे हम आसानी से Delete नहीं कर सकते है यह एक EEPROM( Electrical Erasable Programmable Read Only Memory ) Type की Memory होती है | जिसे Electronically Erase और Reprogram किया जा सकता है | ताकि बाद में अगर BIOS को Upgrade करना हो तो कोई problem नहीं आये |

Functions of BIOS:-

1.BIOS Setting को Check करना :-

BIOS सबसे पहले CMOS में BIOS setting को check करता है यह Computer के Start होने के बाद CMOS से  सभी setting को Read करता है ताकि सभी सही से Work perform कर सके |

2. Computer Drivers Load करना

BIOS setting check करने के बाद BIOS Computer Drivers Load करता है | जो की Operating System और Connection Device के बीच एक Base या Interface का Work करते है |

3. Computer registers को initialize करना

Computer drivers load करने के बाद BIOS computer के CPU के सभी Registers को सही तरह से initialize या use होने के लिए Prepare करता है |

4. Power On Self Test(POST) करना

Initialize करने के बाद BIOS hardware और अन्य device Example Keyboard, Mouse आदि को Test करता है | इस Process को POST या Power On Self Test कहते है |

5. BIOS Setup करना

POST के Process के time हम एक Special Key Press करते है जिससे हमारे सामने एक Setting Open हो जाती है | जिसे BIOS setting कहते है | और इस Setting को BIOS सबसे पहले load करता है |

6. Boot device check और Load करना

इन सभी Processes के बाद BIOS एक Bootable medium search करता है उसके बाद Bootable medium को Read करके सही File को RAM में Load करता है | जिसके तुरंत बाद हमारा Computer On हो जाता है |

Striver SDE Problems

Compiler design 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here