C ++ User Defined Function Type

0
23

C++ language Programmer को अपने own function को define करने की अनुमति देता है। एक User defined function group of code को एक specific work करने के लिए करता है और code के उस group को एक name (identifier) दिया जाता है। जब program के किसी भी part से function का call किया जाता है, तो यह Function के Body में defined code execute होता  है।

User defined data types 4 के होते है । 

1. Function with no argument and no return value.

2. Function with no argument but return value.

3. Function with argument but no return value.

4. Function with argument and return value.

Function with no argument and no return value :

जब किसी Function में कोई argument नहीं होता है, तो उसे calling function से कोई data received नहीं होता है। इसी तरह, जब यह कोई value नहीं लौटाता है, तो calling function call किए गए function से कोई data प्राप्त नहीं करता है।

Syntax :

Function Declaration : void function();
Function call : Function();
Function Definition :
                     void function()
                          {
                             // statement
                            }

 Example :

#include<iostream>
using namespace std;
void prime();
int main(){
    // No argument is passed to prime
     prime();
     return 0;
}
//Return type of function is void because value is not returned
void prime()
{
  int num,i,flag=0;
  cout << "inter a postive number :";
  cin >> num;
  
  for(int i = 2; i<= num/2; ++i)
{
if (num%i == 0)
 {
   flag = 1;
   break;
 }
}
if(flag == 1){
        cout << num << "is not the prime number";
}
else{
        cout << num << "is prime number";
    }
}
  • यहाँ पर Prime() name के function को main() function से call किया जाता  है ।
  • Prime() function user se एक Positive number, input में लेता है ,और check करता है कि number Prime है या नहीं ।
  • यह function value return नहीं करेगा।

Function with  No arguments passed but a return value:

#include <iostream>
using namespace std;

int prime();

int main()
{
    int num, i, flag = 0;

    // No argument is passed to prime()
    num = prime();
    for (i = 2; i <= num/2; ++i)
    {
        if (num%i == 0)
        {
            flag = 1;
            break;
        }
    }

    if (flag == 1)
    {
        cout<<num<<" is not a prime number.";
    }
    else
    {
        cout<<num<<" is a prime number.";
    }
    return 0;
}

// Return type of function is int
int prime()
{
    int n;

    printf("Enter a positive integer to check: ");
    cin >> n;

    return n;
}

Above program में, Prime () function को main() से बिना किसी argument के call किया जाता है। prime() user से positive integer लेता है। चूंकि, function का return type एक int है, यह user द्वारा input लिए गए number को calling main() function पर return करता  है। फिर, number prime है या नहीं, इसे main() में ही check किया जाता है और Screen पर Print किया जाता है।

3. Function with Argument Passed With No Return Value:

#include <iostream>
using namespace std;

void prime(int n);

int main()
{
    int num;
    cout << "Enter a positive integer to check: ";
    cin >> num;
    
    // Argument num is passed to the function prime()
    prime(num);
    return 0;
}

// There is no return value to calling function. Hence, return type of function is void. */
void prime(int n)
{
    int i, flag = 0;
    for (i = 2; i <= n/2; ++i)
    {
        if (n%i == 0)
        {
            flag = 1;
            break;
        }
    }

    if (flag == 1)
    {
        cout << n << " is not a prime number.";
    }
    else {
        cout << n << " is a prime number.";
    }
}

ऊपर दिए गए program में सबसे पहले User से Positive number किया जाता है जो Variable number में store होता है। फिर, number को Prime() function में passed किया जाता है, जहां number Prime है या नहीं, check और Print किया जाता है। चूंकि, Prime का Return type () एक zero है, function से कोई value return नहीं किया जाता है।

4.Function with Argument Passed And A Return Value:

#include <iostream>
using namespace std;

int prime(int n);

int main()
{
    int num, flag = 0;
    cout << "Enter positive integer to check: ";
    cin >> num;

    // Argument num is passed to check() function
    flag = prime(num);

    if(flag == 1)
        cout << num << " is not a prime number.";
    else
        cout<< num << " is a prime number.";
    return 0;
}

/* This function returns integer value.  */
int prime(int n)
{
    int i;
    for(i = 2; i <= n/2; ++i)
    {
        if(n % i == 0)
            return 1;
    }

    return 0;
}

उपरोक्त Program में, User से एक Positive inter पूछा जाता है और variable number में store किया जाता है। फिर, number को prime() function में pass किया जाता है, जहां number prime- है या नहीं, इसकी जांच की जाती है। चूंकि, prime का returnType () एक int है, 1 या 0 को main () calling function में return—- कर दिया जाता है। यदि number एक -prime number है, तो 1 return किया जाता है। यदि नहीं, तो 0 return कर दिया जाता है। main() function में return, किया गया 1 या 0 variable flag में store किया जाता है, और corresponding text, screen पर Print होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here