Introduction of Arithmetic Operation & its different Operation

0
40

Introduction of Arithmetic Operation & its different Operation

Arithmetic Operation

Digital computers में Arithmetic instructions का use करके Data में manipulated किया जाता है। Addition, subtraction, multiplication and division चार basic arithmetic operation हैं।

हम चाहें तो हम इन चार Operations का use करके अन्य Operations receive कर सकते हैं। Arithmetic operation को Execute करने के लिए एक अलग Section होता है जिसे Arithmetic processing unit कहा जाता है Arithmetic instructions आमतौर पर Binary या Decimal पर किए जाते हैं Fixed-point numbers का use integer या fractions को represent करने के लिए किया जाता है। Fixed-point addition सबसे सरल Arithmetic operation है। यदि हम किसी Problem को Solve करना चाहते हैं तो हम अच्छी तरह से defined steps के sequence का use करते हैं। इन Step को Algorithms कहा जाता है।

Computational problem को solve करने के लिए Arithmetic instructions का use digital computer में किया जाता है जो Data में manipulated करते हैं। ये instructions arithmetic calculation करते हैं। और ये instructions एक Digital computer में Data को process करने में एक great activity करते हैं। जैसा कि हमने पहले ही कहा है कि चार basic arithmetic operation के साथ Addition, subtraction, multiplication and division अन्य Arithmetic operation को Receive करना और Solve  करना संभव है|

different Types of Operation-

1. Addition:-

दो Numbers को Add करना Addition कहलाता है। हम signed or unsigned numbers को add कर सकते हैं। जब हम दो Numbers जैसे 8 और 5 को Add करते हैं, तो परिणाम 13 होता है अर्थात दो single-digit वाली Numbers को Add करने पर हमें Result में दो Digit की Number receive हो सकती है। Binary system में भी ऐसी ही possibility include है।

0 + 0 = 0
0 + 1 = 1
1 + 0 = 1
1 + 1 = 10

Love Babbar SDE Sheet Problem- Solution in Video format

2. Subtraction- 

Subtraction में B का A से A यानी A-B का difference find करना है। binary subtraction का आधार है|

0 – 0 = 0
0 – 1 = -1
1 – 0 = 1
1 – 1 = 0

3. Multiplication Algorithm:-

प्रारंभ में गुणक B में है और गुणक Q में है। उनके संगत चिह्न हैं:
क्रमशः बीएस और क्यू में। हम A और Q दोनों के चिह्नों की तुलना करते हैं और संगत चिह्न पर सेट करते हैं
उत्पाद के बाद से एक डबल लंबाई उत्पाद रजिस्टर ए और क्यू में संग्रहीत किया जाएगा। रजिस्टर ए और
E को क्लियर किया जाता है और अनुक्रम काउंटर SC को गुणक के बिट्स की संख्या पर सेट किया जाता है। चूँकि an
ऑपरेंड को इसके चिह्न के साथ संग्रहित किया जाना चाहिए, शब्द का एक बिट चिह्न द्वारा कब्जा कर लिया जाएगा और
परिमाण में n-1 बिट्स शामिल होंगे।

अब, Qn में गुणक के निम्न क्रम बिट का परीक्षण किया जाता है। यदि यह 1 है, तो गुणक (B) को इसमें जोड़ा जाता है
वर्तमान आंशिक उत्पाद (ए), 0 अन्यथा। रजिस्टर EAQ को फिर एक बार दायीं ओर स्थानांतरित कर दिया जाता है
नया आंशिक उत्पाद। अनुक्रम काउंटर को 1 से घटाया गया है और इसके नए मान की जाँच की गई है। अगर यह होता है
शून्य के बराबर नहीं, प्रक्रिया दोहराई जाती है और एक नया आंशिक उत्पाद बनता है। जब एससी = 0 हम
प्रक्रिया को रोकता है

What is Cloud Computing in hindi

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here