IPV4 and IPV6 Header & Comparison between IPV4 and IPV6

0
31

IPV4

IPv4 का पूरा नाम Internet Protocol Version 4 है| यह Internet Protocol का चौथा Version है| जिसका use  Packet Switched Layer networks Ethernet में किया जाता है| IPv4 एक Connection Less Protocol है जिसका use Packet Switch Network में किया जाता है| IPv4 Best Effort Delivery Model के base पर work करता है जिसमे ना तो Delivery की कोई गारंटी होती है और ना ही सही क्रम में Packet के पहुँचने की. इसमें Duplicate delivery की Possibility से भी इनकार नहीं किया जा सकता|

IPv4 32 Bit यानी कि 4  Byte Addressing का use करता है जो कि 232 Address देते हैं| IPv4 के Address को Dot-decimal notation में लिखा जाता है जिसमे address के कुल चार octet होते हैं| इन्हें अलग-अलग decimal में लिखा जाता है और pried के द्वारा अलग किया जाता है| Ex., 162.128.1.9.

IPV6

IPv6 (Internet Protocol Version 6) को IPng (Internet Protocol next generation) भी कहा जाता है और ये New version है Internet Protocol (IP) का. इसे review करने के लिए IETF standards committees का use किया गया है ताकि ये पूरी तरीके से IPv4 (Internet Protocol Version 4) को replace कर सके|

IPv6 को Internet Protocol Version 4 (IPv4) का successor माना जाता है| इसे ख़ास तोर से  Internet Protocol का upgraded version के रूप में prepare किया गया है ताकि ये कुछ time तक IPv4 के साथ coexist कर सके| IPv6 का design कुछ इस प्रकार से किया गया है ताकि Internet को Steadily बढ़ने में मदद करे, दोनों number of hosts connected और पूरी मात्रा की Data traffic transmitted को सही रूप से बढ़ने में help करे| IPv6 को “next generation” Internet standard के नाम से भी जाना जाता है और ये मध्य 1990 से under development था| IPv6 IP address की demand बढती जा रही है| तो वो दिन दूर नहीं जब IP addresses पूरी तरह से End हो जाएगी|

Comparison between IPV4 and IPV6

IPV4

IPV6

इसमें 32 Bits length का address होता है| इसमें 128 Bits length का address होता है|
IPV4 address एक Binary number होती है | जिसे Decimal में show किया जाता है IPV6 address एक Binary number होती है | जिसे Hexadecimal में show किया जाता है
इसमें Fragmentation को sender तथा Forwarding routers दोनों के द्वारा Perform किया जाता है| इसमें Fragmentation को केवल sender के द्वारा Perform किया जाता है|
यह Mobile Network के लिए थोडा कम Friendly है | यह Mobile Network के लिए थोडा ज्यादा Friendly है|
इसमें Header field की संख्या 12 है| इसमें Header field की संख्या 8 है|
यह एक Numeric address है जिसमें 4 fields होते है और ये Field dot (.) के द्वारा separate  रहते हैं| यह एक alphanumeric address है जिसमें 8 fields होते है और ये Fields colon (:) के द्वारा separate रहते हैं|
इसके पास IP address की 5 class होती है | Class A, Class B. Class C, Class D, Class E| इसके पास IP address नहीं होती है |
यह SNMP protocol को support करता है| यह SNMP protocol को support नहीं  करता है|
यह Encryption और Authentication provide नहीं करता है | यह Encryption और Authentication provide करता है |
इसमें Checksum field available होते है इसमें Checksum field available  नहीं होते है

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here