Models of Network Computing and OSI Models

0
44

Computer Network Models

Networking Engineering एक Complex work है जिसमें Software Frame ware chip level engineering hardware और Electronic include हैं| Network Engineering को आसान बनाने के लिए पूरी Networking concept को कई Layers में divide किया गया है|

प्रत्येक Layer किसी विशेष work में include है और अन्य सभी Layers से Free है| लेकिन सभी Networking work इन सभी Layers पर Depend करते हैं| Layers उनके बीच Data share करती हैं और वे केवल Input लेने और Output send करने के लिए एक-दूसरे पर Depend हैं|

Layered Task

Network Model में एक पूरे Network process को छोटे Work में Divide किया गया है| प्रत्येक छोटे Work को तब एक विशेष Layer को Assign किया जाता है| जो केवल work को Processed करने के लिए समर्पित रूप से work करता है| प्रत्येक Layer केवल Special work करती है| Layered communication system में एक Layer दूरस्थ Host पर उसी Level पर उसके सहकर्मी Layer द्वारा या उसके द्वारा किए जाने वाले work से Related है| Work या तो Layer द्वारा सबसे Low level पर या सबसे Upper level पर शुरू किया जाता है|

यदि work को सबसे Upper layer द्वारा शुरू किया जाता है तो इसे आगे की Process के लिए नीचे की Layer पर Passed किया जाता है| Low layer वही work करती है जो work को Processed करती है और निचली Layer पर गुजरती है| यदि work को सबसे कम Layer द्वारा शुरू किया जाता है तो Receiver path लिया जाता है|

हर Layer Club सभी Process को एक साथ Protocol और Methods में include करता है जिसके लिए उसे अपने work के Execution की आवश्यकता होती है| सभी Layers Encapsulation Header और टेल के माध्यम से अपने Counterparts की पहचान करती है|

OSI Model

Open System Interconnected सभी Communication system के लिए एक Open Standards है| OSI Models International Standards Organization द्वारा Establish किया गया है| इस Model में सात Layers हैं|

Application Layer

Application Layer OSI model का सातवाँ (सबसे Highest) Layer है। Application Layer का मुख्य work हमारी Real Application तथा अन्य Layer के मध्य Interface कराना है। Application layer end user के सबसे नजदीक होती है। इस Layer के अंतर्गत HTTP, FTP, SMTP तथा NFS आदि Protocol आते है। यह Layer यह Control करती है कि कोई भी Application किस प्रकार Network से access करती है।

Presentation Layer

Presentation Layer OSI model का Sixth layer है। इस Layer का use data का Encryption तथा Decryption के लिए किया जाता है। इसे Data compression के लिए भी use में लाया जाता है। यह Layer Operating system से Related है।

Session Layer

Session Layer OSI model की Fifth layer है जो कि सभी Computer के बीच Connection को Control करती है। Session Layer दो devices के बीच Communication के लिए Session available कराता है अर्थात जब भी कोई user कोई भी Website open करता है तो user के Computer system तथा Website के Server के बीच तक Session created होता है। Simple word में कहें तो Session Layer का मुख्य work यह देखना है कि किस प्रकार Connection को establish, Maintain तथा Terminate किया जाता है।

Transport Layer

Transport Layer OSI model की Fourth layer है। इस Layer का use data को Network के बीच में से सही method से Transfer किया जाता है। इस Layer का work दो Computer के बीच Communication को Available कराना भी है।

Network Layer

Network Layer OSI model का Third layer है इस Layer में Switching तथा Routing technique का use किया जाता है। इसका Work logical address अर्थात IP address भी Available कराना है

Data Link Layer

यह Layer Link से और उसके Data को Reading और Writing के लिए Responsible है| इस level पर Link error का पता लगाया जाता है|

Physical Layer

यह Layer Hardware को Define करता है| Waring power output pulse rate आदि को cable करता है|

Internet Model

Internet TCP IP protocol shoot का use Internet shoot के रूप में भी किया जाता है| यह Internet Model को Define करता है जिसमें Forth layered include है| OSI Model सामान्य Communication Model है लेकिन Internet Model वह है जो Internet अपने सभी Communication के लिए use करता है| Internet अपने  Network architecture  से Free है इसलिए यह उसका Model है|

Type of Internet Model

Application Layer

यह Layer Protocol को Define करता है जो users को Network के साथ Communication करने में able बनाता है| Example  FTP HTTP आदि|

Transport Layer

यह Layer define करती है कि Host के बीच Data कैसे Flow होना चाहिए| इस level पर प्रमुख Protocol Transmission Control Protocol है| यह Layer सुनिश्चित करती है कि Host के बीच दिया गया data in Oder है और End to End deliver के लिए Responsible है|

Internet Layer

Internet Layer इस Layer पर work करता है| यह Layer host को संबोधित और मान्यता provide करती है| यह Layer Routing को define करती है|

Link Layer

यह Layer real data send और receive करने को provide करती है|अपने OSI model के विपरीत यह Layer  Network architecture और Hardware से free है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here