What are Relational Model and Relational model Constraints

0
61

Relational Model

Relational model एक ऐसा model है जो यह प्रस्तुत करता है कि किस प्रकार relational database में data store रहता है | एक Relational database, data को tables (relations) के रूप में store करता है| Table जो है वह columns तथा rows का एक समूह होता है जहाँ column एक entity के attributes को प्रस्तुत करता है और rows, records को प्रस्तुत करती है| Relational model को 1969 में E.F. codd ने प्रस्तावित किया था|

Relational model दुनिया में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला data model है क्योंकि यह बहुत ही easy है जिससे programmers इसमें आसानी से काम कर सकते है तथा यह model data processing तथा storage की सभी जरूरतों को पूरा करता है|

Example

ID

NAME

AGE

PHONE NO

101 ABHINAV CHAHAL 20 7906935210
202 RAVI KUMAR 19 7896541232
303 SACHIN TIWARI 21 9981457587
404 ROHIT SHARMA 22 6398125475
505 RAHUL TIWARI 20 8782563958

 

Important topics of Relational model

1. Attribute

Attribute एक ऐसी property होती है जो कि relation (table) को define करती है. जैसे:- ऊपर दी गयी table student में id, name, age तथा phone table के attributes है.

2. Tuple

Table की प्रत्येक raw को tuple कहते है| उपर दिए गये table में 5 tuples है, एक tuple को निचे दर्शाया गया है|

202 RAVI 19 7896541232

 

3. Degree

Table में attributes की संख्या को ही table की degree कहते है| Table student की degree 4 है|

4. Cardinality

Table में tuples की संख्या को ही table की cardinality कहते है| ऊपर दी गयी table student की cardinality 5 है|

5. Column

Column जो है वह किसी विशेष attributes की values को प्रस्तुत करता है.
यहाँ table student की एक column को दिखाया गया है.

1
2
3
4
5

 

6. NULL Values

वह वैल्यू जो कि उपलब्ध नहीं होती है NULL वैल्यू कहलाती है | उदाहरण के लिए आप टेबल student में देख सकते है. ID 5 की phone वैल्यू NULL है.

7. Relational Schema

Relation schema जो है वह टेबल के नाम के साथ उसके attributes को प्रस्तुत करती है | EX:- STUDENT (ID, NAME, AGE, and PHONE) टेबल student के लिए एक relation schema है.

Relational model Constraints

प्रत्येक relation की कुछ conditions होती है जिन्हें हम relational integrity constraints कहते है. जो कि तीन मुख्य प्रकार की होती है.

1. Key Constraints

2. Domain Constraints

3. Referential Integrity Constraints

4. Entity Constraints

5. Tuple Uniqueness

Advantages and Disadvantages of Relational Model

Advantages

  • Manipulation operations ( Deletion , Updation , Creation ) आदि बहुत आसान हो जाते हैं ।
  • Users को सिर्फ SQL query ही देनी पड़ती है । 4th generation language SQL user को यह सुविधा देता है की वह सिर्फ यह बताये की उसे क्या करना है ना कि कैसे करना है।
  • इस model में designer को physical view की जानकारी रखने की आवश्यकता नहीं होती है उसे बस केवल  logical view की ही जानकारी रखनी होती है । इससे designer का बोझ कम हो जाता है ।
  • Database में Changes की स्थिति में application program में Changes की जरूरत नहीं होती है ।
  • इसका Implementation , Maintenance व administration बहुत आसान हो जाते हैं ।

Disadvantages

  • User व designer को physical Storage structure की complexity की information नहीं होती है ।
  • इसकी design व implementation के सरल होने के कारण database system की design बहुत खराब हो सकती है।
  • Storage की complexity की जानकारी के अभाव में data Base से Related सभी area की complete information नहीं होने से वे सभी areas में विशेषता हासिल नहीं कर पाते है ।
  • Decomposition व Synthesis दोनों design की विधियों के कारण redundancy पूरी तरह से खत्म नहीं होती है।
  • Relational model in DBMS में बहुत सशक्त Hardware जैसे Computers व data storage उपकरणों की आवश्यकता होती है ये बहुत महंगे होते हैं ।
  • Design में complexity algorithm व Calculation का Use किया जाता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here